संकट और लॉकडाउन के बीच, भारतीय रेलवे ने 1 जून से 200 ट्रेनें चलाने का फैसला किया है। इन ट्रेनों की बुकिंग 21 मई से शुरू हो चुकी है  सुबह 10 बजे से ।  ये ट्रेनें वर्तमान में चल रही मजदूर स्पेशल ट्रेनों से अलग होंगी।  बुधवार देर रात उनकी सूची जारी की गई।  इनमें दुरंतो, संपर्क क्रांति, जन शताब्दी, और पूर्वा एक्सप्रेस जैसी ट्रेनें शामिल हैं।  इन ट्रेनों में एसी और नॉन एसी कोच होंगे।  

Add caption

रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, 1 जून से चलने वाली ट्रेनों का किराया सामान्य होगा, लेकिन जनरल कोच में सीट बुक करने के लिए भी स्लीपर का किराया देना होगा।  इन ट्रेनों में तत्काल या प्रीमियम तत्काल टिकट की सुविधा नहीं होगी।  साथ ही, यात्रा की अनुमति केवल तभी होगी जब यात्री के पास कन्फर्म टिकट हो।  टिकट बुकिंग केवल आईआरसीटीसी ( IRCTC )  की आधिकारिक वेबसाइट और रेलवे के मोबाइल ऐप पर की जा सकती है।  आरक्षण काउंटर से कोई टिकट बुक नहीं किया जाएगा।  इनके लिए अग्रिम आरक्षण की अवधि 30 दिन होगी, आरएसी और प्रतीक्षा सूची के नियम पहले की तरह होंगे ।भारतीय रेलवे ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने के बाद अब रेल यात्रियों को एक और राहत भरी खबर दी है।  रेलवे बोर्ड ने स्टेशनों पर कैंटीन और सभी तरह के स्टॉल खोलने की हरी झंडी दे दी है।  रेलवे बोर्ड द्वारा भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम और जोनल रेलवे को भेजे गए एक पत्र में इसकी जानकारी दी गई है।  रेलवे बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि बड़े रेलवे स्टेशन जहां फूड प्लाजा या रिफ्रेशमेंट रूम चल रहे हैं, उन्हें तुरंत खोला जा सकता है।  हालांकि, यह भी कहा गया है कि यात्रियों को फूड स्टॉल पर बैठकर खाना नहीं खिलाया जाएगा।



 बता दें, जनता कर्फ्यू के दिन यानी 22 मार्च को देशभर की रेलवे की 12000 पैसेंजर ट्रेनों को रोक दिया गया था।  इसके अलावा, रेलवे ने 30 जून तक बुक किए गए सभी टिकटों को रद्द कर दिया था और यात्रियों को रिफंड भी दिया था।  इसका मतलब है कि ट्रेनों के सामान्य होने में समय लगेगा।
नया पेज पुराने